सभी श्रेणियां
सोने का समय
टीका
त्वचा देखभाल युक्तियाँ
बच्चे का स्नान
अपने बच्चे के साथ बंधन
बच्चे का खाद्य
बच्चे का खाद्य और व्यंजन
शिशु देखभाल पर विशेषज्ञों

वयस्क की त्वचा और शिशु की त्वचा के बीच अंतर

वयस्क व्यक्ति की त्वचा आमतौर पर विभिन्न चीजों के प्रभाव में आती है जैसे कि खराब मौसम, पर्यावरणीय बदलाव, रसायन आदि, जिनका इस पर अवांछित प्रभाव पड़ता है।
दूसरी ओर, शिशु की त्वचा नाजुक, मुलायम और संवेदनशील होती है। शिशु की त्वचा अभी भी विकसित हो रही है। शिशु की त्वचा का एपिडर्मिस (‍बाह्यत्वचा) वयस्क की त्वचा की मोटाई का एक-तिहाई होता है। अत: धूल और बैक्टीरिया शिशु की त्वचा के अपरिपक्व‍ अवरोध को आसानी से भेद सकते हैं।

शिशु की पसीने की ग्रंथियां कम प्रभावी होती हैं, जिसका अर्थ है कि शिशु की त्वचा नमी को आसानी से सोख लेती है और खो देती है। इस वजह से शिशु के शरीर का तापमान विनियमन का कार्य वयस्क की तुलना में बहुत कम होता है। शिशु की त्वचा में सीबम और मेलानिन का उत्पादन भी कम होता है। इन सब का मतलब है कि शिशु की त्‍वचा पर अधिक ध्यान दिए जाने और अधिक देखरेख किए जाने की आवश्यकता है।

रोचक आलेख

नवजात शिशु 23/01/2020

शिशु देखभाल पर विशेषज्ञों

जानिए कि आपके नवजात शिशु की देखभाल करने के बारे में लोकप्रिय ब्लॉगर्स और पेरेंटिंग विशेषज्ञ क्या कह रहे हैं। क्या आपको कोई विशिष्ट सवाल पूछना है ? हमें हमारे फेसबुक पेज पर लिखें और हम आपके प्रश्न का उत्तर देने के लिए एक विशेषज्ञ खोजने का प्रयास करेंगे।

नवजात शिशु 24/01/2020

आपके शिशु को अच्छी नींद क्यों चाहिए?

हम सभी जानते हैं कि नींद हमारे स्वास्थ्य को बहुत सारे स्तरों पर प्रभावित करती है - चाहे वह मानसिक हो, शारीरिक हो या भावनात्मक हो। लेकिन हमारे छोटे बच्चों के कल्याण और विकास पर इसका क्या असर होता है? माँ, पिछली बार कब आपको महसूस...

गर्भावस्था 23/01/2020

विषय के साथ आलेख